इंस्टिट्यूट ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन एंड रिसर्च सेण्टर (आई सी ए आर ) भद्रक ओडिसा में प्रशिक्षणाथियों को नैतिक मूल्यों से पॉजिटिव थिकिंग का पाठ पढ़ाया

इंस्टिट्यूट ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन एंड रिसर्च  सेण्टर (आई सी ए आर ) भद्रक  ओडिसा में प्रशिक्षणाथियों को नैतिक मूल्यों से पॉजिटिव थिकिंग का पाठ पढ़ाया 

आयोजक स्थानीय ब्रह्माकुमारीज़ सेवाकेंद्र भद्रकः ओडिसा
मुख्य वक्ता —ब्रह्माकुमार भगवान् भाई माउंट आबू 
विषय — नैतिक मूल्यों से पॉजिटिव थिकिंग 
संस्था डायरेक्टर –श्री  प्रदीप कुमार बेहेरा 
बी के सौभाग्य भाई ने ब्रह्माकुमारी संस्था का परिचय दिया ​
1

सिनेमा व इंटरनेट ने भटकाया

ब्रह्माकुमार भगवान भाई ने कहा कि वर्तमान समय कुसंग, सिनेमा, व्यसन और फैशन से युवा पीढ़ी भटक रही है।आध्यात्मिक ज्ञान और नैतिक शिक्षा के द्वारा युवा पीढ़ी को नई दिशा मिल सकती है। उन्होंने बताया कि सिनेमाइन्टरनेट व टीवी. के माध्यम से युवा पीढ़ी पर पाश्चात्य संस्कृति का आघात हो रहा है। इस आघात से युवा पीढ़ी कोबचाने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि युवा पीढ़ी को कुछ रचनात्मक कार्य सिखाए, तब उनकी शक्ति सही उपयोगमें ला सकेंगे। वरिष्ठ राजयोगी ब्रह्माकुमार भगवान भाई ने कहा कि हमारे मूल्य हमारी विरासत है। मूल्य की संस्कृतिके कारण भारत की पूरे विश्व में पहचान है। इसलिए नैतिक मूल्य, मानवीय मूल्यों की पुर्नस्थापना के लिए सभी कोसामूहिक रूप में प्रयास करने चाहिए। सकारात्मक चिन्तन का महत्व बताते हुए उन्होंने कहा कि सकारात्मक चिन्तन सेसमाज में मूल्यों की खुशबू फैलती है। सकारात्मक चिन्तन से जीवन की हर समस्याओं का समाधान होता है। उन्होंनेशिक्षा का मूल उद्देश्य बताते हुए कहा कि चरित्रवान, गुणवान बनना ही शिक्षा का उद्देश्य है। उन्होंने आध्यात्मिकता कोमूल्यों का स्रोत बताते हुए कहा कि शांति, एकाग्रता, ईमानदारी, धैर्यता, सहनशीलता आदि सद्गुण मानव जाती काश्रृंगार है।